Dard Shayari, Khamoshi se bikherna

खामोशी से बिखरना आ गया है,
हमें अब खुद उजड़ना आ गया है,
किसी को बेवफा कहते नहीं हम,
हमें भी अब बदलना आ गया है,
किसी की याद में रोते नहीं हम,
हमें चुपचाप जलना आ गया है,
गुलाबों को तुम अपने पास ही रखो,
हमें कांटों पे चलना आ गया है|

Khamoshi Se Bikharna Aa Gaya Hai,
Hamian Ab Khud Ujarna Aa Gaya Hai,
Kisi Ko Bewafa Kehte Nahi Hum,
Hamian B Ab Badlna Aa Gaya Hai,
Kisi Ki Yad Main Rote Nahi Hum,
Hamian Chup Chap Jalna Aa Gaya Hai,
Gulabun Ko Tm Apne Pass Rakho,
Hamian Kantun P Chalna Aa Gaya Hai.

Read More : Shayari in Hindi

Leave a Reply