तारों मे अकेला चाँद…

तारों मे अकेला चाँद जगमगाता है,
मुस्किलों मे अकेला इंसान ही डगमगाता है,
काँटों से मत घबराना मेरे दोस्त,
क्यूकी काँटों मे ही एक गुलाब मुस्कुराता है..

Leave a Reply