True Love Shayari, Kabhi Khushi

कभी ख़ुशी से खुशी की तरफ़ नहीं देखा
तुम्हारे बाद किसी की तरफ़ नहीं देखा
ये सोचकर कि तेरा इन्तज़ार लाजमी है
तमाम उम्र घड़ी की तरफ़ नहीं देखा

Leave a Reply