Uth-Uth Ke – Hindi Sad Shayari

उठ-उठ के बैठते हैं रातों का हाल है,
दिन एक गुजरता है जैसे एक साल है,
फिर भी न हो यकीन मेरी आँखों से पूछ लो,
जब से गए हो आज तक गीला रुमाल है ।।

Leave a Reply