2 Line Hindi Shayari, Badhe Shook se banaya

बड़े शौक से बनाया तुमने मेरे दिल मे अपना घर
जब रहने की बारी आई तो तुमने ठिकाना बदल दिया।


इश्क का धंधा ही बंद कर दिया साहेब।
मुनाफे में जेब जले.. और घाटे में दिल..!


शायद कुछ दिन और लगेंगे, ज़ख़्मे-दिल के भरने में,
जो अक्सर याद आते थे वो कभी-कभी याद आते हैं।


अपने वजूद पर इतना न इतरा ए ज़िन्दगी..
वो तो मौत है जो तुझे मोहलत देती जा रही है!!


कुछ तो बात है तेरी फितरत में ऐ दोस्त,
वरना तुझ को याद करने की खता हम बार-बार न करते!


चुपचाप गुज़ार देगें तेरे बिना भी ये ज़िन्दगी,
लोगो को सिखा देगें मोहब्बत ऐसे भी होती है।


ग़ैरों को भला समझे और मुझ को बुरा जाना..
समझे भी तो क्या समझे जाना भी तो क्या जाना।


किनारों से मुझे ऐ नाख़ुदा दूर ही रखना..
वहाँ ले कर चलो, तूफ़ान जहां से उठने वाला हैं।


जब किसी से कोई गिला रखना सामने अपने आईना रखना।


आंखों देखी कहने वाले, पहले भी कम-कम ही थे
अब तो सब ही सुनी-सुनाई बातों को दोहराते हैं।

Best Collection of Two Line Love Shayari in Hindi Font

क्या नाम दूँ मैं अपनी मोहब्बत को..
कि ये तेरा सिवा किसी और से होती ही नहीं..!! ‪


कौन कहता है संवरने से बढ़ती है खूबसूरती…
दिलों में चाहत हो तो चेहरे यूँ ही निखर आते है..!!


जिसको तलब हो हमारी, वो लगाये बोली,
सौदा बुरा नहीं… बस “हालात” बुरे है..!!


मैं भी खरीददार हूं मैं भी खरीदूंगा..
प्यार कहां बिकता है पता बताना यारों..!!


उन लोगों की उम्मीदों को कभी टूटने ना दे..!!
जिनकी आखरी उम्मीद सिर्फ आप ही है..!!


निकाल दिया उसने हमें अपनी ज़िन्दगी से भीगे कागज़ की तरह,
ना लिखने के काबिल छोड़ा, ना जलने के..!!


तेरी ज़िन्दगी में ना सही…
पर तारीख में तो आज भी 13 ही हूँ..!!


जरूरी नहीं की हर बात पर तुम मेरा कहा मानों,
दहलीज पर रख दी है चाहत, आगे तुम जानो..!!

Latest Collection of 2 Line Shayari in Hindi

तुम दूर..बहुत दूर हो मुझसे.. ये तो जानता हूँ मैं…
पर तुमसे करीब मेरे कोई नही है.. बस ये बात तुम याद रखना…


तुझे पाना.. तुझे खोना.. तेरी ही याद मेँ रोना
ये अगर इश्क है.. तो हम तनहा ही अच्छेँ हैँ.!!


कभी किसी के जज्बातों का मजाक ना बनाना.
ना जाने कौन सा दर्द लेकर कोई जी रहा होगा..


कुछ तो है जो बदल गया जिन्दगी में मेरी
अब आइने में चेहरा मेरा हँसता हुआ नज़र नहीं आता…


उमर बीत गई पर एक जरा सी बात समझ में नहीं आई
हो जाए जिनसे महोब्बत, वो लोग कदर क्यूं नहीं करते


यूँ तो कोई शिकायत नहीं मुझे मेरे आज से,
मगर कभी-कभी बीता हुआ कल बहुत याद आता है…


अपने हर लफ्ज़ में कहर रखते हैं हम,
रहें खामोश फिर भी असर रखते हैं हम..


बडी अजीब मुलाकातें होती थी हमारी,
वो किसी मतलब से मिलते थे और हमे तो सिर्फ मिलने से मतलब था…


अब ये न पूछना की . . ये अल्फ़ाज़ कहाँ से लाता हूँ
कुछ चुराता हूँ दर्द दूसरों के, कुछ अपना हाल सुनाता हूँ


तूफान भी आना जरुरी है जिंदगी में तब जा कर पता चलता है की
कौन हाथ छुड़ा कर भागता है और कौन हाथ पकड़ कर


 

तेरी गली में आकर के खो गये हैं दोंनो.!
मैं दिल को ढ़ूँढ़ता हुँ दिल तुमको ढ़ूँढ़ता है.!!


Humari ‪shayari‬ padh kar bas itna sa bole wo,
‪kalam‬ cheen lo inse.. ye ‪lafz‬ ‪dil‬ cheer dete hai.


तुम आए थे, पता लगा, सुन कर अच्छा भी लगा,
पर गैरों से पता चला, बेहद बुरा लगा !!


Aaj Koi ‪#‎Shayari‬ Nhi Bas Itna Sun Lo,
Main ‪‎Tanha‬ hun Aur ‪Wajah‬ Tum Ho


Jee Chahe Ki Duniya Ki Har Ek ‪#‎Fikra‬ Bhula Kar..!!
Kuchh ‪shayari‬ Sunau Me Tujhe Pass Bitha Kar..!!


Ab woh armaan hain, na woh sapnay..
Sab qabootar urra gaya koi!


औक़ात नही थी जमाने में जो मेरी कीमत लगा सके,
कबख़्त इश्क में क्या गिरे, मुफ़्त में नीलाम हो गए..


अकसर भुल जाती हूँ मैं तुम्हें शाम की चाय में चीनी की तरह,
फिर जिंदगी का फीकापन तुम्हारी कमी का एहसास दिला देता है !!


मुझसे नफरत ही करनी है तो इरादे मजबूत रखना,
जरा से भी चुके तो महोब्बत हो जायेगी


तेरी जरूरत, तेरा इंतजार और ये तन्हा आलम,
थक कर मुस्कुरा देती हूँ, मैं जब रो नहीं पाती !!


सीने में धङकता जो हिस्सा है,
उसी का तो ये सारा किस्सा है !

Facebook Two Line Hindi Shayari

facebook hindi shayari
facebook hindi shayari

विश्वास की एक डोरी है फेसबुक;
विश्वास के बिना कोरी है फेसबुक;
कभी थैंक्स तो कभी सॉरी है फेसबुक;
ना मानो तो कुछ भी नहीं;
पर मानो तो सब की भी कमजोरी है फेसबुक…….॥

2 Line Shayari, Umar beet chali hai

एक उमर बीत चली है तुझे चाहते हुए,
तू आज भी बेखबर है कल की तरह..


जब नफ़रत करते करते थक जाओ…।
तो एक मौका प्यार को भी दे देना.।।


खामोशियाँ – बहुत कुछ कहती हैं,,
कान नही दिल लगा कर सुनना पड़ता है…


मैंने उसे बोला ये आसमान कितना बड़ा है ना,
पगली ने गले लगाया और कहा इससे बड़ा तो नहीं….


देखते हैं अब क्या मुकाम आता है साहेब,
सूखे पत्ते को इश्क़ हुआ है बहती हवा से….!!


मैने जो पुछा उनसे कि.. यूँ बात बात पे रूलाते क्युँ हो…
वो बङे प्यार से बोली, मुझे बहता हुआ पानी बेहद पंसद है..


शायरी लिखना बंद कर दूंगा अब मैं यारो…
मेरी शायरी की वजह से दोस्तों की आँखों में आंसू अब देखे नहीं जाते…!!


जाते जाते उसने पलटकर सिर्फ इतना कहा मुझसे,,
मेरी बेवफायी से ही मर जाओगे या मार के जाऊ.!!


ठहर सके जो.. लबों पे हमारे,,
हँसी के सिवा, है मजाल किसकी…


तुम पल भर के लिए दूर क्या जाते हो,
तो हम ‘बिखरने’ से लगते हैं..